सोमवार, 7 मार्च 2011

मेरे खयालों के घोड़े....

[अपेक्षाकृत लम्बी कविता]

कई बार ऐसा भी हुआ है
बीता नहीं है लम्हा,
कतरा-कतरा धकेलना पडा है उसे,
कई बार समय इतनी तीव्रता से गुजरा है कि
लम्हों की कौन कहे,
दिन पर दिन कैसे बीते,
पता ही नहीं चला !

इन ठहरे हुए लम्हों
और तेज़ रफ़्तार से गुज़रते हुए
बदहवास दिनों के दीर्घ अंतराल में
मेरे तरकश में जितने तीर थे,
मैंने छोड़े !
मेरी यादों में हमेशा हिनहिनाते रहे
दरियाई और कई-कई नस्ल के घोड़े;
और वे रह-रह कर दौड़े !!

दुलकी घोड़े अलसाए-से
अपने चारो पांव पसारे
मेरे मन के अस्तबल में
रहे सकते धूप;
उन्होंने तब गर्दन उचकाई,
बड़ी आस से मुंह को खोला
लगी उन्हें जब भूख !
मैंने थोड़ी घास डाल उनको बहलाया... !

तेजस्वी घोड़ों ने भी
उछल मचाई, कूदे-फांदे
मीठे स्वर में रोते-गाते रहे रात-दिन;
मैंने उनको शब्द दे दिए--
वे रहे जुगाली करते...!

चेतक-जैसे अश्वों ने भी
क्षिप्र गति से
शिथिल पड़ी मेरी नस-नाडी में
जाने कैसी त्वरा भरी थी,
मैंने जब भी चाहा उनकी करूँ सवारी,
वे आँखों की ओट हो गए;
मैंने केहुनी मार
पटखनी खुद को दे दी
खोल लिए कुछ ग्रन्थ सामने
डूबा दिए लम्हे-दर-लम्हे
जीवन के क्षण सारे यूँ ही
तीव्र हवा और मंद वायु के
किये हवाले...!

एक अदना-से ख़याल की
मासूम घोड़ी, जो हमेशा मेरे जेहन में रहती थी;
बहुत चंचल-चपल थी !
रह-रह कर वह उधम मचाती
और बिदक कर भागा करती--
मेरे मन के इस कमरे से उस कमरे में !
अपने मन के अवगुंठन में रहती थी वह--
उसे किसी की चाह नहीं थी;
डांट-डपट की उसको बिलकुल परवाह नहीं थी !
मेरी चेतना के कण-कण से
चुनती थी वह घास !
और हमेशा करती रहती
अनचाहा परिहास !!
जब वह थोड़ी बड़ी हो गई
मेरे बोध के पन्ने-चिट्ठे लगी फाड़ने !

मैंने अपनी रक्षा की खातिर
जब यह चाहा--
डालूँ एक लगाम
रोक-बाँध कर उसको रखूँ,
उसने नथुने खूब फुलाए,
रोती-हिनहिनाती रही सामने;
मैंने भी अनदेखी करके
अपनी सख्ती और बढ़ा दी--
किन्तु, एक दिन
मेरे सीने पर मार दुलत्ती
वह जो भागी, दिखी नहीं वह !
मैंने क्रोधित होकर सोचा--
चलो अब पीछा छूटा,
एक अनोखा बंधन जो था,
वह भी टूटा !

लेकिन यह तो गज़ब बात थी
जिन खयालों को खुरच कर
आप हटाना चाहें मन से--
वे लौट-लौट आते हैं,
मन में अशांति के गीत गाते है !

खयालों की वह छोटी घोड़ी
अब तो काफी बड़ी हो गई--
जाकर भी वह गई न मन से,
चुभती रही हमेशा, हरदम
भग्न काँच-सी,
पैनेपन से !

अपने इन्हीं खयालों से अब
ऊब गया मैं !
जितना चाहा, ऊपर उठ आऊं,
उतना गहरे डूब गया मैं !!

5 टिप्‍पणियां:

वन्दना ने कहा…

ऐसा होता है ख्याल बार बार आते है जितना दूर जाना चाहो उतने ही वेग से दस्तक देते हैं………………बेह्द उम्दा रचना।

देवेन्द्र पाण्डेय ने कहा…

आपने तो दौड़ा ही दिया जीवन के मैराथनी दौड़ में...अद्भुत!

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

अपने इन्हीं खयालों से अब
ऊब गया मैं !
जितना चाहा, ऊपर उठ आऊं,
उतना गहरे डूब गया मैं
कविता तो कल ही पढ ली थी, लेकिन जितनी बार पढती, उतनी ही बार अलग-अलग अर्थ सामने आते जाते. आपकी कविता पर बहुत कुछ लिखने के योग्य नहीं हूं मैं. बहुत सुन्दर कविता.

इस्मत ज़ैदी ने कहा…

जिन ख्यालों को खुरच कर
आप हटाना चाहें मन से--
वे लौट-लौट आते हैं,
मन में अशांति के गीत गाते है !

मैं तो आज तक नहीं हटा पाई अपने किसी ख़याल को मन मस्तिष्क se
सच तो ये है की जाएँ tab लौट के आएं न !

अपने इन्हीं खयालों से अब
ऊब गया मैं !
जितना चाहा, ऊपर उठ आऊं,
उतना गहरे डूब गया मैं

असमर्थ हूँ कुछ भी कह पाने में ,आप की लेखनी नि:शब्द कर देती है

नश्तरे एहसास ......... ने कहा…

बहुत ही अद्भुत रचना.........आपकी इस रचना को अपने आप से जुड़ा हुआ महसूस किया .कुछ ऐसा ही होता लगता है ख्यालों की उधेड़बुन में .