गुरुवार, 19 अप्रैल 2018

[एक विस्तृत परिभ्रमण कथा]
[यात्रा-वृत्तान्त]

इन्द्रलोक-सा गोवा : जितना भव्य, उतना ही मदहोश...

एक सप्ताह का गोवा-प्रवास अतिशय आनन्ददायी था। पुणे से गोवा आठ घण्टों का निरंतर सफ़र था, चार चक्रवाहिनी से। 4 मार्च की सुबह 7 बजे हमने प्रस्थान किया। मेरे तीन हमसफ़र थे--मेरी धर्मपत्नी, मेरी छोटी सुपुत्री और उनके मित्र हाशिम भाई ('कौन बनेगा करोड़पति' से प्रसिद्धि-प्राप्त 'सज्जनजी')।
हम सब प्रसन्न-मन चल पड़े गन्तव्य की ओर--रुकते-ठहरते, चाय-नाश्ता करते और म्यूजिक सिस्टम पर संगीत-श्रवण करते हुए। राष्ट्रीय राजमार्ग की यात्रा करते हुए जब हम निपाणी (कर्णाटक) पहुँचे तो मुझे अपने बिछड़े हुए एक मित्र 'मालपाणी' की नाहक याद आयी। नाहक इसलिए कि अगर उसकी याद न आयी होती तो हम सीधे राजमार्ग की बाँह थामे आगे बढ़ जाते, निपाणी में रुकने की वजह से हमारा यात्रा-मार्ग बदल गया और हम इकहरी तथा सँकरी सड़क पर मुड़ गये, जो राज्यमार्ग (निपाणी-अजरा लिंक रोड) था। सड़क के पार्श्व भाग में दोनों ओर छोटे-छोटे गाँवों और जले-भुने खेतों का दर्शन करते हुए हमारी गाड़ी अचानक एक ऊँचाई से नीचे उतरती जान पड़ी। और देखते ही देखते ढलान तीखी और सर्पिल होती गयी। उस पर वाहनों की आवाजाही भी कम न थी और कार-चालक हाशिम साँसत में पड़े हुए थे। कार-चालन का उन्हें पर्याप्त अनुभव तो था, लेकिन पहाड़ी मार्गों और घाटियों में उन्होंने अधिक भ्रमण नहीं किया! वह सहमते-सकुचाते सतर्कता से कार को संकुचित चाल से चलाते रहे। तीखे मोड़, गहरी ढलान और रपटों को रौंदती कार चली जा रही थी और वह भयप्रद घाटी खत्म होने का नाम न लेती थी। एक-दो तीखे मोड़ ऐसे भी गुज़रे, जब मन में आया कि कार का संचालन अपने हाथ में ले लूँ, लेकिन आगे-पीछे दौड़ते वाहनों और इकहरे मार्ग के कारण इसका भी अवकाश नहीं था। हमारे पीछे के वाहन हाॅर्न बजाते हुए तीव्र गति से चलने का संकेत दे रहे थे और मैं इस संकोच से ग्रस्त था कि वाहन को मेरे संचालन का अभ्यास नहीं था। मुझे डर था कि मैं उसे जिस दिशा में बढ़ने का आदेश दूँ, वह उधर न बढ़कर दूसरी दिशा में बढ़ चले तो?...

हम सभी सूखते हलक के साथ अपनी-अपनी सीट पर स्थिर थे। म्यूजिक सिस्टम में लगा पेन ड्राइव एक-के बाद दूसरा गीत धीमी आवाज़ में सुनाता जा रहा था, तभी रफ़ी साहब का एक पुराना गीत बज उठा--'दिल में छुपा के प्यार का तूफ़ान ले चले, हम आज अपनी...' इस गीत ने इतनी ही यात्रा की थी कि पीछे से छोटी बेटी का हाथ डैश बोर्ड तक आया और रफ़ीजी की खनकती आवाज़ को शांत कर गया। कोई कुछ बोला नहीं, किसी ने आपत्ति दर्ज़ नहीं की। जब हर मोड़ पर संकट सम्मुख खड़ा हो तो कौन अगली पंक्ति सुनने का साहस करता--'हम आज अपनी मौत का सामान ले चले!' प्राण-संकट हो तो संसार का हर प्राणी मन से कितना भीरु होता है न...!

लेकिन सज्जन भाई पूरी सावधानी और मंथर गति से घाटी से प्रायः आधे घण्टे तक उतरते ही रहे और अंततः हमने एक शिला पर लिखा वाक्य पढ़ा--'अंबोली घाट समाप्त'। इस वाक्य ने हमें कितनी राहत दी, यह कहने की आवश्यकता नहीं। लेकिन भयाक्रांत इस भ्रमण ने वन-वीथियों का अप्रतिम सौंदर्य, उच्चावच मार्गों से दीखती विशाल वन-संपदा और सूर्यास्त-दर्शन का अलभ्य अवसर हमसे छीन लिया।...

घाटी के बाद भी घण्टे भर की यात्रा शेष थी। शाम के चार बजने के कुछ पहले ही हम गोवा के मरकत मणि-तट पर जा पहुँचे। समुद्र-तट के किनारे सी पैराडाइज़ बीच हट्स, मैण्ड्रम में हमने ठहरने का निश्चय किया और काॅटेज को प्रतिदिन के किराये पर ले लिया एक सप्ताह के लिए। काॅटेज को 'पर्णकुटी' कहूँ तो अत्युक्ति नहीं होगी। बाँस की तीलियों-खपच्चियों और छोटे-बड़े टुकड़ों से बना सुन्दरतम काॅटेज, जहाँ सुख-सुविधाओं का सारा प्रबंध था। लहराती समुद्री हवाएँ सुखदायी थीं। हमने वहीं शरण ली, चाय पी और तत्काल सूर्यास्त-दर्शन के लिए समुद्र-तट पर जा पहुँचे। वहीं विशाल समुद्र का दिव्य दर्शन हुआ।...
समुद्र-तट पर देसी-विदेशी पर्यटकों की भीड़ थी, अपार श्वेत बालुका राशि थी, शेड में अर्द्धशयन मुद्रावाली गद्दीदार बेंचें बिछी दीं। चंचल शोख़ हवाएँ थीं। वहाँ पहुँचते ही मात्र आधे घण्टे में यात्रा की थकान मिट गयी और देह फरहर हो उठी। परमानंद हुआ वहाँ और समुद्र-तट पर ही रात का भोजन कर हम लौट आये।...पहुँचवाला पहला दिन बीत गया।...



'कथा दिवस की खत्म हो गई, विश्राम करें श्रीमान्।
फिर से आवें इसी पटल पर, पढ़ें नया व्याख्यान!!'
(क्रमशः )

2 टिप्‍पणियां:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (21-04-2017) को "बातों में है बात" (चर्चा अंक-2947) (चर्चा अंक-2941) पर भी होगी।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

Meena Sharma ने कहा…

वाह ! मनोरंजक वर्णन ! अगली कथा का इंतजार ।