बुधवार, 9 मई 2018

इन्द्रलोक-सा गोवा : जितना भव्य, उतना ही मदहोश...(5)

ऊँची पहाड़ी के सर्पिल मार्ग से नीचे उतरते हुए हम समुद्र के किनारे समतल बलुआये मैदान में पहुँचे, जिसकी एक तरफ़ नीला समुद्र था और दूसरी ओर मीठे जल का ताल। अद्भुत सौंदर्य बिखरा हुआ था वहाँ। नारियल और खजूर के पेड़ों की छाया में अर्धचंद्राकार स्वरूप में 'बेड' बिछे थे।... हम उन्हीं गद्देदार शय्या पर विश्राम करने लगे। हमारे ठीक सामने मीठे जल की झील तरंगित थी। तरंगित इसलिये कि झील का जल ठहरा हुआ नहीं था, प्रवहमान् था, प्रायः 350 मीटर की रेतीली भूमि के अन्दर-अन्दर छनकर समुद्र का खारा पानी परिशुद्ध होता हुआ आता है और एक विशाल भूमि-पात्र में मृदु होकर जमा हो जाता है। पात्र की सीमा से अतिरिक्त होता जल दूसरी दिशा में बहता चला जाता है। समुद्री तटों के किनारे ऐसी उथली जल-संरचना, जो लवणयुक्त तथा खारे पानी को मीठी झील या तालाब में परिवर्तित करती हो, उसे 'लगून' कहते हैं।... अब हम उसके ठीक किनारे आराम कर रहे थे। गोरी त्वचावाले बहुत-से विदेशी लोग वहाँ पहले से लेटे-बैठे थे और कई लोग झील में तैर रहे थे। कई विदेशी मेहमान अपने पूरे शरीर पर औषध मिश्रित पीली मिट्टी का लेपन करवा के विभूति बने धूप सेंक रहे थे। इसे हम 'पीतवर्णी औषधीय मृदा-लेपन' कहें तो उचित होगा। शरीर पर किया गया यह लेपन जब सूख जाता है, तब विदेशी पर्यटक झील के मीठे जल का स्नान करते हैं और अपने त्वचा-संबंधी अवगुणों का निदान करते हैं। और, इस उपचार के लिए वे बड़ी राशि का भुगतान भी करते हैं।...
झील पहाड़ों से तीन तरफ से घिरी हुई थी और ठीक हमारी शय्या के सामने पहाड़ों ने जैसे जानबूझकर झील को एक गलियारा दे दिया था, अतिरिक्त जल के निकास के लिए। अद्भुत नज़ारा था वहाँ का।...

थोड़ी देर विश्राम करने के बाद बेटी अपनी माता के साथ झील में उतर गयी, जबकि हम सभी समुद्र-स्नान सुबह ही कर चुके थे। माँ-बेटी को झील के मीठे जल में कुलेल करते हुए बड़ा आनन्द आ रहा था। वे हमें भी पानी में उतरने के लिए ललकार रही थीं। अंततः मैं और हाशिम भाई भी पुनर्स्नान के लिए विवश हुए। निःसंदेह वहाँ आनन्द मिला, लंबी पद-यात्रा की थकान जाती रही। स्नानोपरांत शाम 4.30 बजे तक हम वहीं बैठे सुन्दर दृश्यों का अवलोकन करते रहे। तभी आसमान में कई छतरियाँ मँडराती दिखीं। बेटी संज्ञा ने पूछा--'पापा, पाराग्लाइडिंग करेंगे?' ऊँचाइयों से भयभीत होनेवाला मैं, इतनी हिम्मत जुटा न सका और समुद्र को आकाश से देखने की योजना निरस्त हो गयी; लेकिन हसरत-भरी एक नज़र उन पर लगी रही जो उत्साही आसमान में झूलते हुए भयावह समुद्र का आक्रांत दर्शन कर रहे थे। प्राण तो उनके भी कण्ठ में ही रहे होंगे, फिर भी सच तो यही है कि शौर्य की गाथा साहसी ही लिखते हैं।...

पाँच बजते ही हम फिर उसी मार्ग से होते हुए बाज़ार में पहुँच गए। एक कप चाय की तलब थी। तट के एक रेस्तरां में बैठकर चाय पीने का मन हो आया। बेटी अपनी माँ के साथ आगे-आगे चल रही थी। उन दोनों ने मुझसे पहले एक रेस्तरां में प्रवेश किया और उनके बाद हाशिम भाई ने। मैं प्रवेश-द्वार पर द्वारपाल से मुख़्तसर-सी बातें करने लगा। अचानक जाने क्या हुआ कि होटल के प्रबंधक एक वेटर के साथ तेज़ी से मेरे पास आये और बड़ी विनम्रता से मुझसे अंदर चलने का आग्रह करने लगे। उनकी इस शिष्टता-भद्रता से मैं प्रभावित तो हुआ, लेकिन माजरा कुछ समझ न आया।
रेस्तरां की कुर्सी पर बैठते हुए बेटी ने मुझसे कहा--'पापा, आपके तो जलवे हैं।' हमने वहीं चाय पी और अस्ताचलगामी सूर्यदेव के दर्शन किये। लगा कि दिन-भर का जलता सूरज शीतलता पाने के लिए समुद्र में जा छुपा। रेस्तरां के वेटर मुझ नाचीज़ में ऐसा क्या देख रहे थे या किस बड़ी हस्ती का साम्य मुझमें उन्हें दृष्टिगोचर हो रहा था, राम जाने! वे मेरी बहुत ख़िदमत कर रहे थे। 'यस सर', 'नो सर' कह-कहकर उन्होंने मुझे 'विशिष्ट' बना दिया, जबकि मैं मानता हूँ, मैं ठीक से 'शिष्ट' भी न बन सका। किन्तु, इस अप्रत्याशित आवभगत का मैं भी आनन्द उठाने लगा। चलते वक़्त वेटर और गेटमैन ने बड़ी विनम्रता से कहा था--'फिर आने का... सर!'... जब हम पहाड़ी रास्तों में थे, तो सबों के ठहाके गूँँज रहे थे।...श्रीमतीजी यह कहकर बार-बार हँस पड़ती थीं--'सेलिब्रिटी! सेलिब्रिटी!!' मेरे पूछने पर उन्होंने और बिटिया ने सम्मिलित रूप से बताया कि "जब आप गेटमैन से बातें कर रहे थे, तब अन्दर हलचल मची थी। मैनेजर अपनी सीट से उछलकर खड़ा हुआ था और वेटरों से उसने कहा था--'अरे, कोई सेलिब्रिटी आये हैं!' और वे हमें छोड़कर आपकी अगवानी को बढ़ गये।"
श्रीमतीजी की चिकोटी काटती मुखर हँसी और बेटी का परिहास भी मुझे अप्रीतिकर नहीं लग रहा था। झूठी प्रशंसा भी प्रिय लगती है न...?









(शेषांश अगली कड़ी में)

3 टिप्‍पणियां:

Dilbag Virk ने कहा…

आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 10.05.2018 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2966 में दिया जाएगा

धन्यवाद

Sanju ने कहा…

बहुत सुन्दर रचना।.........
मेरे ब्लाॅग पर आपका स्वागत है ।

आनन्द वर्धन ओझा ने कहा…

संजू भाई, आपके ब्लॉग के इंट्रो पृष्ठ का दर्शन कर आया। अन्य पृष्ठ आपकी रचनाओं के खुले नहीं या मुझे खोलना आया नहीं। क्षमायाचना सहित...