शनिवार, 10 जनवरी 2015

'प्रेम' की दो अद्भुत व्याख्याएं...

[

'प्रेम' की दो अद्भुत व्याख्याएं, दो विभूतियों (पहली निरालाजी, दूसरी सुमित्रानंदन पंतजी की) की कलम से, पूज्य पिताजी की बहुत पुरानी १९३३ की पॉकेट डायरी से, जो अब ताड़-पत्र-सी हो गई है, आप सबों के अवलोकन के लिए....--आनंद]

5 टिप्‍पणियां:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

सार्थक प्रस्तुति।
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (12-01-2015) को "कुछ पल अपने" (चर्चा-1856) पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

Kavita Rawat ने कहा…

वाह! इतनी पुरानी होकर भी कितनी नयी है ...जैसे अभी लिखा हो...
आभार!

anandvardhan ojha ने कहा…

कविता रावतजी,
पिताजी की १९३३ की पॉकेट डायरी की दशा तो ऐसी है, जैसे ताड़-पत्र...! मुड़ जाए तो टूटने का ख़तरा...! मैंने उस मूल पृष्ठ की फोटो कॉपी करवा ली, फिर कैमरे के क्लिक से उसकी तस्वीर उतारकर आपके सम्मुख रही है, तभी वह तरोताज़ा दिख रही है... वस्तुतः वह ऐसी है नहीं...!

AJIT NEHRA ने कहा…

VERY NICE TOPIC DEAR KEEP GOING SUPERB

www.homebasedjob.biz get daily free home based jobs

www.genuinehomejobs.in All part time jobs for students mom's

www.genuinehomejobs.in earn money by Mobile android smartphone

www.nvrthub.com All part time home based jobs free

www.homebasedjob.biz all typing DATA ENTRY JOB

www.nvrthub.com Government Jobs on mobile daily alerts

N A Vadhiya ने कहा…

Nice Article sir, Keep Going on... I am really impressed by read this. Thanks for sharing with us.. Happy Independence Day 2015, Latest Government Jobs. Top 10 Website