शुक्रवार, 8 जनवरी 2010

तूफ़ान का असर देखा...

[पुराने पन्नों से]
यही सूरते-हाल मैंने शामो-सहर देखा,
मैंने हर शख्स में जलता हुआ शहर देखा !

कहीं तो होगा एक आफताब का टुकड़ा,
अंधेरों ने मेरी आँख में क्यों डर देखा !

मिलो बहार से तो महज़ इतना कहना,
क्यों खिजां ने प्यार से मेरा ही घर देखा !

अपनी ज़मीन पर खड़े होने का हक है तुमको,
रिश्तों ने मेरे रंग में कौन-सा कहर देखा !

एक तुम्हारे हाल पर रोने की है फुर्सत किसको,
मैंने हर शाख पर तूफ़ान का असर देखा !

सुकून खोजते क्यों हो आज की दुनिया में दोस्त,
कहाँ-कहाँ नहीं वहशत-भरा मंज़र देखा !

बेसबब क्यों उखाड़ते हो तुम गड़े मुर्दे--
फिर हया की कब्र में क्यों तुमने झाँककर देखा !!

12 टिप्‍पणियां:

विवेक सिंह ने कहा…

बहुत उम्दा ।

बधाई स्वीकारें ।

दिगम्बर नासवा ने कहा…

कहीं तो होगा एक आफताब का टुकड़ा,
अंधेरों ने मेरी आँख में क्यों डर देखा ...

लाजवाब ग़ज़ल है ........ उम्दा शेर हैं ........ कमाल के तेवर नज़र आते हैं हर शेर में .........

ज्योति सिंह ने कहा…

[पुराने पन्नों से]यही सूरतऐ-हाल मैंने शामो-सहर देखा,
मैंने हर शख्स में जलता हुआ शहर देखा !

कहीं तो होगा एक आफताब का टुकड़ा,
अंधेरों ने मेरी आँख में क्यों डर देखा !

मिलो बाहर से तो महज़ इतना कहना,
क्यों खिजां ने प्यार से मेरा ही घर देखा !

अपनी ज़मीन पर खड़े होने का हक है तुमको,
रिश्तों ने मेरे रंग में कौन-सा कहर देखा !

एक तुम्हारे हाल पर रोने की है फुर्सत किसको,
मैंने हर शाख पर तूफ़ान का असर देखा !

सुकून खोजते क्यों हो आज की दुनिया में दोस्त,
कहाँ-कहाँ नहीं वहशत-भरा मंज़र देखा !

बेसबब क्यों उखाड़ते हो तुम गड़े मुर्दे--
फिर हया की कब्र में क्यों तुमने झाँककर देखा !!
poori gazal zabardast rahi ,aanand ji aapki rachna bemisaal hoti hai .shabd nahi taarif ke liye

अनिल कान्त : ने कहा…

Gazal padhkar yahi kahne ka man kar raha hai...
Lajawaab !

निर्मला कपिला ने कहा…

एक तुम्हारे हाल पर रोने की है फुर्सत किसको,
मैंने हर शाख पर तूफ़ान का असर देखा !

सुकून खोजते क्यों हो आज की दुनिया में दोस्त,
कहाँ-कहाँ नहीं वहशत-भरा मंज़र देखा !
वाह लाजवाब पूरी गज़ल काबिले तारीफ है बधाई

शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' ने कहा…

आनन्द जी,
बहुत ही भावपूर्ण रचना है
शाहिद मिर्ज़ा शाहिद

Apoorv ने कहा…

आपकी हर रचना का भावपक्ष इतना सशक्त होता है कि तमाम नये और अजनबी खयालों का स्रोत भी बनता है..हर बार..
मअतला ही बेहद ताकतवर है..आज की तारीख भी वही दर्ज करेगी जो आपने इस शे’र मे देखा है.. गुलज़ार साहब की एक गज़ल की याद भी दिलाता..सीने मे नमी आँखों मे तूफ़ाँ सा क्यो है’
मगर दूसरा शे’र बहुत आश्वस्त करता है..
कहीं तो होगा एक आफताब का टुकड़ा,
अंधेरों ने मेरी आँख में क्यों डर देखा !
उम्मीद का यही टुकड़ा हर अँधेरे से लड़ने की प्रेरणा देता है..

हाँ यह वाला थोड़ा मुश्किल रहा मेरे लिये
अपनी ज़मीन पर खड़े होने का हक है तुमको,
रिश्तों ने मेरे रंग में कौन-सा कहर देखा !

और आखिरी वाला तो हमारे राजनीतिक परिदृश्य को बहुत सलीके से सामने..रखता है सवाल करता हुआ सा..
वैसे हथौड़े सी बजती इस ग़ज़ल से मुझे अगर सबसे पसंदीदा लाइन चुनने की मजबूरी हो तो मै यह चुनूँगा..
मैंने हर शख्स में जलता हुआ शहर देखा !
बहुत आगे तक जाती है यह गज़ल..अभी तो दोबारा से पढ़ना पड़ेगा.

गौतम राजरिशी ने कहा…

कुछ लाजवाब मिस्‍रों से सजी रचना...यूं कुछ टिप्पणिकारों से इसे ग़ज़ल की संज्ञा दी है जो कि अनुचित होगा, मेरी अदनी समझ के मुताबिक।

"मिलो बाहर से तो महज़ इतना कहना,क्यों खिजां ने प्यार से मेरा ही घर देखा" इन दोनों पंक्तियों का अंदाज बेमिसाल है। ...और फिर "मैंने हर शाख पे तूफ़ान का असर देखा" की मार कहीं दूर तक जाती देख रहा हूँ।

ऊपर अपूर्व की टिप्पणी में "सीने में जलन आंखों में तूफ़ान सा क्यों है" की याद मुझे भी आयी, लेकिन मेरे ख्याल से ये शहरयार साब का शेर है।

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

सुकून खोजते क्यों हो आज की दुनिया में दोस्त,
कहाँ-कहाँ नहीं वहशत-भरा मंज़र देखा !

कमाल की रचना. हर शे’र अलग मिज़ाज़ का. पहले गज़ल लिखने वाली थी, फिर गौतम जी की टिप्पणी याद आ गई.
गौतम जी, सही पहचाना, वो शहर्यार साब की ही गज़ल है.

हरकीरत ' हीर' ने कहा…

मिलो बाहर से तो महज़ इतना कहना,
क्यों खिजां ने प्यार से मेरा ही घर देखा !

वाह....वाह......!!
आनंद जी गज़ब का शे'र ...... यहाँ 'बहार' ही लिखना चाहते थे न....?

अपनी ज़मीन पर खड़े होने का हक है तुमको,
रिश्तों ने मेरे रंग में कौन-सा कहर देखा !

बस ये रिश्ते यूँ ही कहर ढाते रहते हैं हमपर ......!!

बेसबब क्यों उखाड़ते हो तुम गड़े मुर्दे--
फिर हया की कब्र में क्यों तुमने झाँककर देखा !!

ओये होए ....ये तो कमाल का है .....!!

आनन्द वर्धन ओझा ने कहा…

विवेक सिंहजी, नसवाजी, अनिलकान्तजी, निर्मला कपिलाजी, शाहिदजी, वंदना दुबेजी, ज्योतिजी,
आप सभी बंधुओं का आभार ! मेरे दिमाग के गोशे-गोशे में उबलते ख़यालों को आपने स्नेह दिया, थोड़ी ठंढक पड़ी है !
अपूर्वजी, जिसकी ओर आपका इशारा है, वह अशार थोडा निजी-पीड़ा से जुड़ा है, उसकी बात फिर कभी... अभी तो मेरी बंदगी लें !
राजऋषिजी, आपकी प्रतिक्रिया मुतासिर करती है... मशकूर हूँ !
हीरजी, दिन-रात काले अक्षरों से आँखें फोड़ते-फोड़ते चुंधिया गई हैं बेचारी... तभी तो शुद्धियाँ पढ़ते-पढ़ते अशुद्धि छोड़ गया मैं... विलाशक, वह 'बहार' ही है... ध्यान दिलाने का शुक्रिया !

बेनामी ने कहा…

nice to be here avojha.blogspot.com blogger found your site via Google but it was hard to find and I see you could have more visitors because there are not so many comments yet. I have found website which offer to dramatically increase traffic to your website http://xrumer-service.com they claim they managed to get close to 4000 visitors/day using their services you could also get lot more targeted traffic from search engines as you have now. I used their services and got significantly more visitors to my site. Hope this helps :) They offer most cost effective services to increase website traffic Take care. Jeremy